रविवार, 23 सितंबर 2018






1.शुक्रिया, शशी कपूर  

शुक्रिया आपको
आप के मन का सच्चा अभिनेता
स्वयं बच्चों के पास जा रहा है
उनसे बतिया रहा है
उनके मन में जो आपसे मिलने की ललक है
उसे समझ कर
आप का सहज व्यवहार चकित करता है
आपका मन बड़ा है
जो इन दिव्यांग बच्चों से जुड़ा है
आपने राधा और अफजल के
सर पर भी हाथ फिराया
राधा शरमाई
अफजल मुस्कुराया
मैंने भी यहाँ आकर
समय नहीं गंवाया
आपको ये हमेशा याद करेंगे
शुक्रिया आपको
इनके मूक शब्दों में
बड़ी व्यंजना है|
(वर्ष -2003 में लिखी गयी )
2.अमरजोति
उमा जी की अमरजोति है
या कि अमरजोति
से बनी हैं उमा जी
कहना कठिन है
एक बार जो गया है
वह प्रेरणा से भर गया है
मुग्ध भाव से
आपकी सेवा का फलक
नए अनुभव के सोपान बनाता है
आपका ये मिशन
दिव्यांग बच्चों के लिए
नए आसमान रचता है
ये नई उड़ान का
हवाई अड्डा है
ये नए जलयानों का
नया बंदरगाह है
कुंठितों को अकुंठ
करना आसान कभी नहीं रहा
आपने तो पूरे देश को
दिव्यांग जन की खिड़की से
पुनर्सृजित करने का
बीड़ा उठाया
आपके प्रयास को नमन
आज जो कुछ समावेशी हो सका है
उसमें आपके प्रयास समाविष्ट हैं|
(-2004)



3.बास्केट बाल
ह्वील चेयर से
बास्केट बाल खेलते हुए
बच्चे खिलखिला रहे हैं
दूसरे बच्चे से छीनकर
मोहन गोल पोस्ट में
बाल डालने में सफल हुआ
अब वह खेल रहा है पूरे मन से
उसे अपनी अक्षमता को बदल लिया है
क्षमता के व्याकरण से
वो खुश होकर नाच रहा है
लट्टू सा अपनी ह्वील चेयर पर|
(-2005 )

   
4.नेत्रहीन बच्चों का क्रिकेट
जैसे सब खेलते हैं
वैसे नेत्रहीन बच्चे भी
खेलते हैं क्रिकेट
उनकी बाँल बजती है
वो ध्वनि के आधार पर
पकड़ते है बाँल को  
आवाज के सहारे करते हैं बैटिंग
फील्डिंग भी सुनकर  ही
की जाती है
इनके गीत भी बहुत
लुभाते हैं मन को
इन्हें लोग कितना भी अलग समझें
अपनी सक्षमता से
ये खुद ही बनाते है अपनी दुनिया को
अपने हिसाब से
अब तो इन्होने ने खोल ही लिए हैं
दुनिया के बंद दरवाजे|
(2006)

@भारतेंदु मिश्र
पूर्व समन्वयक समावेशी शिक्षा 

शुक्रवार, 24 नवंबर 2017

उत्तर मंडल के स्पेशल एजूकेशन टीचर्स ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय  विकलांगता दिवस -21/11/2017
स्थान-राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय लुडलो कैसल,दिल्ली-110054
मंडल के सैकड़ों बच्चों ने उत्साह पूर्वक भाग लिया-
सांस्कृतिक  कार्यक्रम 

उप शिक्षा निदेशक उत्तर मंडल का निरीक्षण 


खेल कूद 


दिव्यांग बच्चों द्वारा दीप प्रज्जवलन


 सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते दिव्यांग बच्चे और उनके दोस्त|

संयोजक मंडल 

शनिवार, 18 नवंबर 2017




पोस्टर बनाओ प्रतियोगिता:
विश्व विकलांगता  दिवस//दिव्यांग जन की पहचान

दि.17/11/2017 को श,भा.बाल.मुकुंद सर्वो.विद्यालय के सभागार में विद्यालय के 100 से अधिक विद्यार्थियों ने इस प्रतियोगिता में भाग लिया|इस प्रतियोगिता का उद्देश्य सामान्य छात्रों में दिव्यांग बच्चों और दिव्यांग जानो की आवश्यकताओं के प्रति जागरूकता का संचार करना था| 



संयोजक:डॉ.भारतेंदु मिश्र,(बाएँ )श्री लाला राम शर्मा (दाएं )




रविवार, 1 मई 2016



एन सी आर टी  परिसर-अजमेर, अनेक प्रदेशो के जिला समन्वयको की अजमेर यात्रा की यादें |

फरवरी २०१६ 





शनिवार, 30 अप्रैल 2016

शनिवार, 9 अप्रैल 2016

उत्तर पूर्व मंडल :आई.ई.डी.एस.एस.शाखा
द्वारा रमसा के सौजन्य से-
उपशिक्षा निदेशक उत्तर पूर्व मंडल -श्री एम.एल.अम्भोरे
तथा-
उपशिक्षा निदेशक (आई.ई.डी.एस.एस.)
श्री उद्धव सिंह कुर्मी जी के कर कमलो से--
दो वर्षो के कक्षा 9 से 12 वीं के 116-छात्र लाभार्थियो को उपकरण(ट्राई साइकल,ह्वीलचेयर,कान की मशीन,कैलीपर,रोलेटर,बैसाखी जैसे उपकरण ) वितरित किये गये।
(सत्र-2014-15 तथा सत्र-2015-16)













प्रस्तुति :भारतेन्दु मिश्र-जिला समंवयक (समावेशी शिक्षा)
 विशेष सहयोग:
अंजना त्यागी,सुनील कुमार,मुकेश कुमार साहू,सपना चतुर्वेदी,
आभार: अन्य सभी स्पेशल एजूकेशन टीचर साथी